Hydro Disaster

Tapovan Vishnugad HPP: delays, damages and destructions

(Feature image of rescue operations at Tapovan Vishnugad barrage following Feb. 7, 2021 deluge in Dhauliganga river, Chamoli. PTI Photo/Arun Sharma)

The tragic Chamoli flash flood episode has become latest and one of most vivid examples of how hydro power projects (HPP) are a recipe for disaster in geologically delicate and climatically sensitive regions of Himalaya.

Even 10 days after the deluge the Alaknanda Basin Rivers are following with muddier water. Death toll is mounting. The immense damages to infrastructure including roads, bridges, homes and hydro projects is still to be fully assessed.

The catastrophic event has offered authorities many valuable lessons: not to be blind to the preventable disasters the hydro projects are inviting frequently.

Initial findings have established that the reason behind the flash flood was detachment of snow and rocks. The fact that the hydro projects and other man made mistakes have led to most human casualties and financial losses is undisputable.

Continue reading “Tapovan Vishnugad HPP: delays, damages and destructions”
Hydro Disaster

चमोली आपदा: माँ के फोन कॉल्स से बच गई 25 जिंदगियां

फरवरी 7 को चमोली में आई विकराल बाढ़ अपने पीछे भीषण तबाही के निशान के साथ कुछ अहम सबक भी छोड़ गई है जो भविष्य में आपदा प्रबंधन को बेहतर बनाने में बहुत कारगार साबित हो सकते हैं।

ऐसा ही एक असंभव किस्सा स्थानीय महिला मंगसीरी देवी का है जिनका 27 साल का लड़का विपुल कैरेनी एनटीपीसी की तपोवन विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना में कार्यरत है।

घटना के दिन विपुल की माँ मंगसीरी और पत्नी अनीता ने ऊचाई पर स्थित अपने गांव ढ़ाक से धौलीगंगा नदी में आई जलप्रलय को देखा। उसके बाद उसने अपने बेटे को कई बार फोन किया जिसके कारण उनके बेटे समेत 25 अन्य लोगों का जीवन बच गया।

Continue reading “चमोली आपदा: माँ के फोन कॉल्स से बच गई 25 जिंदगियां”