Wetlands

World Wetlands Day 2021: Five new Ramsar sites in 2020 but threats remain

On the Feb 2 2021, the World Wetlands Day, the Ramsar Convention on Wetlands would also complete its 50 years. The global treaty popularly known as Ramsar Convention was adopted in 1971 and came into force in 1975 following decades of negotiations.

The main objective of the treaty is to promote conservation and wise use of all wetlands through regional actions and international cooperation. Currently, the treaty has been accepted by 171 nations including India. There are 2414 Wetlands of International Importance under Ramsar treaty spreading over 254,540,512 ha of lands across the globe.

Continue reading “World Wetlands Day 2021: Five new Ramsar sites in 2020 but threats remain”
Hindi Blogs · Madhya Pradesh · Urban Water Sector

बाढ़, शहर और नियोजन !

Guest Article by: अभिलाष खांडेकर

कईं वर्ष पूर्व अमेरिका दूसरी बार जाना हुआ। किंतु उस यात्रा में उन पूराने शहर जहाँ मैं पहले जा चुका था, जाना नहीं था, इसलिए मैं ख़ुश था। नए-नए शहर देखना, उनकी बसाहट और इतिहास जानना व उस शहर के किसी भी संग्रहालय को भेंट देना मेरा शौक़ रहा हैं। तो शिकागो शहर जाना हुआ।  शहर का इतिहास जाना तो पता लगा की कैसे एक बार उस शहर का काफ़ी बड़ा हिस्सा जल जाने के बाद नगर नियोजको (अर्बन प्लानर) ने शहर वासियों की मदत से फिर से शिकागो को बनाया। शिकागो नदी के किनारे के इस शहर को नए सिरे से बसाने में नगर-नियोजक डैनीअल बर्नहम की महती भूमिका रही। उन्होंने ही १९०९ में जो विकास योजना बनाईं उसे नगर-नियोजन के वैश्विक इतिहास में स्वर्णाक्षरों में लिखा गया हैं। ‘द प्लान ऑफ़ शिकागो’ नाम से एक सुंदर पुस्तक कॉर्ल स्मिथ नामक लेखक ने उस योजना के लागू होने व शिकागो शहर ने अच्छी नगर-नियोजन प्रणालियों के चलते प्रगति और नाम हांसिल करने के लगभग १०० वर्ष बाद लिखी। उक्त पुस्तक पढ़ने के बाद मेरी दिलचस्पी नगर-नियोजन विषय मैं और अधिक बढ़ी। इंदौर का रहने वाला होने से मैंने स्कॉटिश नगर-नियोजक सर पैट्रिक गेडेज़ के बारे में काफ़ी पढ़-सुन रखा था। गेडेज़ साहब ने ही होलकर महाराज के निमंत्रण पर इंदौर का पहला प्लान १९१४-१९१६ के मध्य बनाया था। गेडेज़ ने इंदौर के अलावा देश के ५०-५५ शहरों की विकास योजनाए बनाईं थीं, जो एक दुर्लभ कीर्तिमान हैं। किंतु यह दुर्भाग्य ही है की उन्हें आज की पीढ़ी कम ही जानती हैं। इंदौर का वह प्लान भी अपने ज़माने का शहरी नियोजन का उमदा दस्तावेज़ हैं जिसमें नदियों का महत्व १०० साल पहले उन विदेशी नियोजक ने रेखांकित किया था।

ख़ैर, मैंने यह छोटी भूमिका इसलिए लिखी जिससे नगर नियोजन के महत्व पर अलग से प्रकाश डाला जा सकें।

जिस महान, प्राचीन भारत में नगरीय सभ्यता व नियोजन की सुंदरता के संदर्भ में मोहनजोदडो व हड़प्पा संस्कृति को चरमोत्कर्ष के रूप में जाना-पहचाना जाता हैं उसी देश में अब नगर नियोजन के समकालीन विज्ञान और कला के साथ-साथ वहाँ के नगरनियोजनकर्ताओं की क्षमताओं पर गम्भीर प्रश्नचिन्ह लगातार खड़े हो रहें हैं। ये इसीलिए की अलग अलग योजनाओं के बावजूद भी तमाम शहरों के हालात चिंतनीय बने हुए हैं।

Continue reading “बाढ़, शहर और नियोजन !”
Dams · Wetlands

West India Wetlands Review 2017: No Protection Here

GUJARAT WETLANDS DEVELOPMENTS 2017

Gosabara wetland declared IBA In March 2017 during a two days workshop, The Bombay Natural History Society (BNHS) declared 96 sq km coastal wetland area of Gosabara-Mokarsagar in Porbandar, as Important Bird Area (IBA) site. There are around 544 IBAs in India and 18 in Gujarat. As per experts though IBA does not have any legal status, it helps environmentalists to raise alarm if the site faces any threats and press for its conservation. In 2001, Salim Ali Centre for Ornithology (SACON) conducted a country-wide survey for important ‘Inland Wetlands of India’ and Gosabara-Mokarsagar wetland was one the 50 important wetlands of the country.  https://timesofindia.indiatimes.com/city/rajkot/gosabara-wetland-now-a-bnhs-iba-site/articleshow/57453811.cms  (The Times of India, 4 March 2017)

Continue reading “West India Wetlands Review 2017: No Protection Here”

Dams · Wetlands

East India Wetlands Review 2017: West Bengal Bent On Destroying World’s Largest Natural Sewage Treatment Plant

The East Kolkata Wetlands (EKW) are unique yet complex system of natural and human-made wetlands in West Bengal. The wetlands cover 125 sq km comprising of salt marshes, salt meadows, sewage farms and settling ponds. They are used to treat Kolkata’s sewage, and the nutrients contained in the waste water sustain fish farms and agriculture.

Devised by local fishermen and farmers, these wetlands served, in effect, as the largest natural sewage treatment plant (STP) for the city. And using the purification capacity of wetlands, Kolkata by transforming nearly one-third of the city’s sewage into a rich harvest of fish and fresh vegetables daily, has pioneered an environment-friendly system of sewage disposal. Because of this, the EKW were designated a “wetland of international importance” under the Ramsar Convention on August 19, 2002. https://en.wikipedia.org/wiki/East_Kolkata_Wetlands

However for past many years, these wetlands are under threat due to exponential expansion of real-estate projects. Recently illegal landfills are on the rise and unprecedented land development and urbanization have been creating concerns about the impact on EKW environment. 2017 has seen the situation turning only worse for EKW. 

Continue reading “East India Wetlands Review 2017: West Bengal Bent On Destroying World’s Largest Natural Sewage Treatment Plant”