Sand Mining

Govts, Judiciary fail as Sand mining ravaging Chambal Sanctuary

(Feature image Mechanized and illegal mining in Chambal river, Morena. Image Source: MP Breaking News)

Large scale illegal sand mining activities are going on in National Chambal River Sanctuary area falling under Morena district of Madhya Pradesh and Dholpur district of Rajasthan despite a ban by Supreme Court, as highlighted by several reports in recent months.

The MP Breaking News report dated Dec. 31, 2021 details how illegal sand mining in Chambal river near Rajghat bridge in Morena side has been unabated contrasting government’s claims of strict actions against sand mafias in the state. Thousands of tractors and heavy machines like JCBs and hydras were involved in the act. It also reveals that the officials from district administration, forest and police departments were fully aware of the situation but did nothing to stop it.

Continue reading “Govts, Judiciary fail as Sand mining ravaging Chambal Sanctuary”
Sand Mining · Yamuna River

यमुना 2019: खनन से खतरे में पड़ा नदी और लोगों का जीवन

इन दिनों हरियाणा के यमुना नगर जिले में यमुना नदी में बड़े पैमाने पर जमकर अवैज्ञानिक और अवैध तरीके से पत्थर, रेत खनन हो रहा है। जिसके कारण यमुना नदी का अस्तित्व खतरे में पड़ गया है। नदी से पत्थर-रेत निकालने के लिए भारत सरकार द्वारा बनाए गए सभी कानूनों को ताक पर रखा जा रहा है। परन्तु जिला प्रशासन और सम्बंधित विभाग मामले पर मौन साधे बैठे हैं।

हाल ही में खनन प्रभावित क्षेत्र के भ्रमण के दौरान, हमने देखा की कई बड़े वाहन नदी से भारी मात्रा में कीमती रेत ढुलान में लगे हैं। नदी की प्राकृतिक धारा को किसी जगह रोका गया है और किसी जगह पर मोड़ा गया है। बड़ी बड़ी जेसीबी और भीमकाय मशीनें बेतरतीबी से नदी तल से रेत खोदने में व्यस्त हैं। जगह जगह रेत के टीलें बने हुए हैं। कई स्थानों पर नदी में विशालकाय गढ्डे बन गए हैं। तो अन्य जगह नदी को बड़े तालाब में बदल दिया गया है। एक तरह से नदी नाम की कोई चीज देखने को नहीं मिली। नदी के स्थान पर रेत के ढ़ेर, जलकुंड और मशीनों और ट्रकों का शोर-शराबा ही देखने और सुनने को मिला। 

Continue reading “यमुना 2019: खनन से खतरे में पड़ा नदी और लोगों का जीवन”